Best women focused in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

दरवाज़ा
by Priya Vachhani

अलार्म की आवाज से नीना चौक कर उठी और झट से अलार्म बंद किया ताकि ललित की नींद खराब हो जाए । धीरे से उठ वह कमरे से बाहर ...

वो भूली दास्तां, भाग-१०
by Saroj Prajapati

आकाश हॉस्पिटल पहुंचते ही सीधा डॉक्टर के पास गया। उसे देखते ही डॉक्टर ने कहा "आइए आकाश जी मैं आपका ही इंतजार कर रहा था। " "डॉक्टर आज मैं ...

પ્રેરણાદાયી નારી પાત્ર સીતા - 8
by Paru Desai

                                                          ...

शापित कलाकार
by Nilesh Desai

  त्या दुपारी मेघा जराशी घाईतच दिसत होती. सकाळचा नवऱ्याचा डबा, दुपारचे जेवण, कपडे-भांडी, घर आवरणं सगळं झालं होतं. तरीही नवऱ्याने फोनवर 'संध्याकाळी कामातले मित्र घरी जेवणासाठी येणार आहेत' ...

वो भूली दास्तां, भाग-९
by Saroj Prajapati

जल्दी से सब उसे हॉस्पिटल लेकर पहुंचे। होश आने पर चांदनी ने जब अपने आपको हॉस्पिटल में पाया तो आकाश की ओर प्रश्न भरी नजरों से देखा। तब आकाश ...

बदनाम राखी
by Singh Srishti

बेहद खूबसूरत लगता है ना रात के वक़्त सफर करना और इन ठंडी हवाओं से ना जाने कितनी बातें करना , इन तारों का जगमगाना और आसमान से चांद ...

द्रोपा भाभी
by Lovelesh Dutt

“द्रोपा खत्म हो गयी” सुबह आँख खोलते ही माँ ने बताया, “सुबह तीन बजे के करीब खत्म हुई। लोगों की भीड़ लगी है। तुम भी हो आना, मैं तो ...

ધારાની અસાધારણ ધારા
by Alpesh Karena

અમુક લોકો એક સાથે ઘણાં કામ કરતાં હોય છે. લગ્ન જીવન પછી ઘર બહારના કામ કરવાં એ દરેકના હાથની વાત નથી. એમાં પણ એક સ્ત્રી માટે તો જરૂરથી કઠિન ...

लग्न
by Nilesh Desai

  आशा माहेरी लाडात वाढली असली तरी हुशार, कामसू आणि मनमिळावू होती. समोरचा प्रभावित होईल इतका छान स्वभाव होता तिचा. तिला बडबड करायला खूप आवडायचं. म्हणजे विषय कोणताही असो ...

वो भूली दास्तां, भाग-८
by Saroj Prajapati

समय पंख लगा बीत रहा था । चांदनी की शादी को चार महीने हो गए थे लेकिन यह चार महीने खुशियों से भरे व उसकी कल्पना से परे थे ...

પ્રેરણાદાયી નારી પાત્ર સીતા - 7
by Paru Desai

                                                          ...

वो भूली दास्तां, भाग-७
by Saroj Prajapati

शादी की तारीख तय होते ही दोनों घरों में शादी की तैयारियां होनी शुरू हो गई थी। आकाश की मां के अरमान तो बहुत थे कि उसकी भी बहू ...

വേശ്യയുടെ മകൾ
by Karthika

ഇന്നാകെ തിരക്കായിരുന്നു ... കോൺഫറൻസ് കഴിഞ്ഞപ്പോൾ 12.30..പിന്നെ അവിടെനിന്ന് ഓഫീസിലേക്ക് ...ഓഫീസിൽ എത്തിയപ്പോഴോ അപേക്ഷകരുടെ നീണ്ട ക്യൂ ..ഇനി ഫുഡ്‌ കഴിക്കാൻ നേരമില്ല .നല്ല വിശപ്പുണ്ട് ....അവിടെ ഇരുന്നപ്പോൾ തന്നെ വയർ എരിയുന്നുണ്ടായിരുന്നു ..പിന്നെ ചെയ്തു തീർക

लच्छो
by Lovelesh Dutt

नाम तो लक्ष्मी था उसका, लेकिन ऐसे नाम भाग्यहीनों, गरीबों और अनाथों को शोभा नहीं देते। शायद यही सोचकर पूरा मुहल्ला उसे लक्ष्मी नहीं लच्छो कहता था। उसकी प्रसिद्धि ...

परतफेड
by Nilesh Desai

   सुमनच्या घरची परिस्थिती तशी बेताचीच होती. कधीकधी तर दोन वेळच्या जेवणाचीही पंचाईत व्हायची. वडिलांचा पगार तुटपुंजा होता. आईवर लहानग्या भावाची जबाबदारी होती. तरीही सुमनने खूप शिकावे अशी तिच्या ...

वो भूली दास्तां, भाग-६
by Saroj Prajapati

आकाश का संदेशा लेकर रश्मि चांदनी के घर गई और जब उसने चांदनी की मां को सारी बातें बताई। सुन उसे अपने कानों पर यकीन ना हुआ कि इतना ...

પ્રેરણાદાયી નારી પાત્ર સીતા - 6
by Paru Desai

                                                          ...

માસિક ધર્મ
by bhagirath chavda

                      આજે થોડા અલગ વિષય પર વાત કરવી છે. પણ અમુક સંસ્કારની પૂંછડીયું કે ચોખલીયા લોકો વિષયનું નામ સાંભળીને ...

वो भूली दास्तां,भाग-५
by Saroj Prajapati

आकाश को जब रश्मि ने चांदनी के दिल का हाल सुनाया तो वह खुश होते हुए बोला "भाभी जी यह खुशखबरी सुनाकर आपने मुझ पर कितना बड़ा  अहसान किया ...

“સ્ત્રીયા: સમસ્તાસફલા જગત્સુ”
by Jagruti Vakil

   “સ્ત્રીયા: સમસ્તાસફલા જગત્સુ” “મેરા પરિચય બસ ઇતના હૈ કી મૈ  ભારત કી તસ્વીર હું, માતૃભૂમિ પર મિટનેવાલો કી પીર હું, ઉન વીરો કી દુહિતા હું જો હંસ હંસ ...

હવસ નું મકાન
by Mohini

હું લગભગ 7 વર્ષ ની હતી...ઘણા વર્ષો જૂની વાત છે. જ્યારે અમે ગામડા મા રહેતા હતા..એ જમાના મા બાળકો ને મમ્મી પપ્પા શાળા મા લેવા મૂકવાનું ભાગ્યે જ કરતા ...

પ્રેરણાદાયી નારી પાત્ર સીતા - 5
by Paru Desai

                                                          ...

Manali Adventure Trekking Camp - 2
by Yash Patel

After walking a while we reached to a point where the nature perfectly showed off its exquisiteness and that's when I thought that I should close my eyes and ...

पैडमेन फ़िल्म के बहाने
by Neelam Kulshreshtha

पैडमेन फ़िल्म के बहाने [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] मुझे लगता है फ़िल्म पैडमेन ने एक सामाजिक क्रांति कर दी है। लोग आज खुलकर स्त्रियों द्वारा मासिक धर्म या माहवारी ...

वो भूली दास्तां, भाग-३
by Saroj Prajapati

चांदनी की मां उसे खाली हाथ देख बोली " अरे तुम तो आइसक्रीम लेने गई थी। खाली हाथ ही आ गई और यह मुंह क्यों उतरा हुआ है तेरा!" ...

औरतें रोती नहीं - 25 - अंतिम भाग
by Jayanti Ranganathan

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 25 इस मोड़ से आगे रात जमकर नींद आई। बारह बजे उसे स्टूडियो पहुंचना था। तैयार होने से पहले आंटी का नौकर सतीश ...

वो भूली दास्तां भाग-२
by Saroj Prajapati

आज रश्मि की शादी थी । शाम होते ही चांदनी ने अपनी मां से कहा "मां मैं रश्मि के घर जा रही हूं । उसे तैयार करवाने पार्लर लेकर ...

પ્રેરણાદાયી નારી પાત્ર સીતા - 4
by Paru Desai

                                                          ...

कड़क रोटी...
by सिमरन जयेश्वरी

"उफ़्फ़!!! यार मैं तंग आ चुकी हूं। इस रोटी मेकर को भी आज ही खराब होना था।" किचन में रोटी बना रही अर्चना ने अपने माथे का पसीना पोंछते ...

औरतें रोती नहीं - 24
by Jayanti Ranganathan

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 24 आमना को ज्यादा देर नहीं लगी अपने को तैयार करने में। देखकर तो आए, इतने बड़े चैनल का ऑडिशन आखिर होता कैसे ...