Best social stories in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

માણસાઈના દીવા - 23
by Zaverchand Meghani
  • (441)
  • 34

૧.કામળિયા તેલ ૨.’જંજીરો પીઓ !’ ૩.પાડો પીનારી ચારણી ! ૪.તોડી નાખો પુલ !

పని’మనిషి’
by Dinakar Reddy
  • 26

అనసూయమ్మ అoటే వైశాలికి ఎoదుకు అoత అభిమానం పనిమనిషి నిజoగా మన మనిషి అవుతుoదా వైశాలి అత్తగారికి విజయవాడ పుష్కరాల్లో బోధపడిన సత్యం ఏమిటో తెలుసుకోవాలంటే చదవoడీ చిన్ని కథ.

అర్థరాత్రి సూరీడు
by Dinakar Reddy
  • 27

సుధీర్ కి తన కొడుకు క్రాoతి గురిoచి ఎoదుకoత దిగులు మనిషికి మనిషి ఎలా సాయo చేసుకోవచ్చో చూపిoచిన అరుoధతి గారిని సుధీర్ అర్థo చేసుకున్నాడా ప్రకృతిని ప్రేమిoచే సర్వసాధారణమయిన మనిషికి నచ్చే చిన్ని కథ ఇది

మట్టి వాసన
by Dinakar Reddy
  • 38

రాజుకి ఊరి చెరువoటే ప్రాణo.తన స్నేహితులతో కలిసి చెరువు దగ్గర ఆడుకోవడమoటే మరీ ఇష్టo.అలాoటి చెరువును రత్నాపురo వదులుకోవాల్సి వస్తే రాజు చెరువును రక్షిoచుకున్నాడా తెలుసుకోవాలoటే చదవoడీ చిన్ని కథ.

తప్పు ఎవరిది ‘National Story Competition-Jan’
by Dinakar Reddy
  • 17

కొత్తగా జడ్జీ కాబోతున్నాడు విశ్వనాథo.అర్థరాత్రి లా పుస్తకాలు తిరగేస్తున్న అతనికి తన టేబుల్ మీద ఉన్న న్యాయ దేవత బొమ్మ ఏడవడo వినిపిస్తుoది. ఆశ్చర్యపోయిన అతను ఏడుపుకు కారణమేమని న్యాయదేవతని అడుగుతాడు..

ஒற்றன்
by BoopathyCovai
  • 40

ஒற்றன் :- இந்த குறு நாவல் என்னுடைய முதல் முயற்சி . கிரைம் நாவல் ராஜேஷ் குமாரின் தீவிர ரசிகன் நான் . சாதாரண கடத்தல் சம்பந்தமாக , சற்று வித்தியாசமான கதாபாத்திரங்களுடன் பயணிக்கும் , இந்த நாவல் உங்களுக்கு ...

ঝিনচ্যাক ছাড়া কিছু থাকবে না
by Q
  • 260

A modernization revolution by serial killer fails and he strives in a mental asylum, and finally reaches his goal, his hundredth victim, which may be...

பிற்பகல் விளையும் ......
by BoopathyCovai
  • 45

இந்த நாவல் உங்களுக்கு ஒரு நல்ல பொழுது போக்கை அளித்திருக்கும் என்று நான் நம்புகிறேன் . முடிந்தால், உங்களுடைய கருத்துக்களை மறக்காமல் பதிவு செய்யுமாறு கேட்டுக் கொள்கிறேன் . உங்களுடைய ஆலோசனைகளை வரவேற்கிறேன் . இப்படிக்கு பூபதி கோவை, boopathycovai@gmail.com

கடைசி வரை கடமை...
by BoopathyCovai
  • 9

இந்த நாவல் உங்களுக்கு ஒரு நல்ல பொழுது போக்கை அளித்திருக்கும் என்று நான் நம்புகிறேன் . முடிந்தால், உங்களுடைய கருத்துக்களை மறக்காமல் பதிவு செய்யுமாறு கேட்டுக் கொள்கிறேன் . உங்களுடைய ஆலோசனைகளை வரவேற்கிறேன் . இப்படிக்கு பூபதி கோவை, boopathycovai@gmail.com

ஆவினம்குடி ஓரத்திலே - 2
by c P Hariharan
  • 12

திரும்பவும் கொஞ்சம் நாள் கழித்து அவர்கள் கிராமத்தில் வரலானார். இப்போது தானே வந்திட்டு போனார்கள். திரும்பவும் எதற்க்காக வந்திருக்கிறார்கள் என்று எல்லோரும் அதிர்ந்து போனார்கள் அப்போது தான் புரிந்தது இந்த தடவை அவர்கள் எதுவும் கேட்டு வாங்கி ...

आखर चौरासी - 39 - Last Part
by Kamal
  • 89

हरनाम सिंह ने पत्र खोल कर पढ़ना शुरु किया। आदरणीय पापा जी, बी’जी पैरीं पैना ! भला कौन जानता था कि कभी मुझे इस तरह भी आपको पत्र लिखना पड़ेगा ? ...और ...

आखर चौरासी - 38
by Kamal
  • 34

इम्तिहान भले ही किसी भी स्तर का हो, उसका असर विद्यार्थियों पर किसी भूत सा ही होता है। यह भी सच है कि उसका असर वहाँ भी एका-एक नहीं ...

आखर चौरासी - 37
by Kamal
  • 28

सतनाम बताए जा रहा था, ‘‘वैसे हालात में आस-पडोस के बाकी लोग तो तमाशबीन बने चुपचाप रहे, लेकिन पड़ोस में रहने वाला वह गबरु नौजवान लड़का अपने घर से ...

सैलाब - 29 - Last Part
by Lata Tejeswar renuka
  • 40

एक दिन पावनी ने शतायु से पूछा, अब कहो शादी के लिए क्या निर्णय लिया ? मौसी आप जो कहे जैसा कहे वैसा ही होगा। पावनी ने ...

आखर चौरासी - 36
by Kamal
  • 42

विक्की के चले जाने से उस शाम गुरनाम अकेला था। वह अपने घर के गेट पर खड़ा यूँ ही सड़क पर आने-जाने वालों को देख रहा था। तभी उसने ...

सैलाब - 28
by Lata Tejeswar renuka
  • 27

अपना दर्द किसको भला कह सकती है। कुछ दिन तक जो हमदर्द बन कर साथ खड़े थे लेकिन कोर्ट की कार्यवाही में वे भी साथ छोड़ दिये। कोई कितने ...

आखर चौरासी - 35
by Kamal
  • 30

गुरनाम और विक्की जब भी घर पर होते हैं, उनकी शामें बस स्टैण्ड पर बने यात्री पड़ाव वाली सीमेंट की बेंच पर शुरु होती हैं। उस शाम भी वे ...

आखर चौरासी - 34
by Kamal
  • 22

गुरनाम और विक्की जब भी घर पर होते हैं, उनकी शामें बस स्टैण्ड पर बने यात्री पड़ाव वाली सीमेंट की बेंच पर शुरु होती हैं। उस शाम भी वे ...

सैलाब - 27
by Lata Tejeswar renuka
  • 30

कुछ क्षण चुप रहने के बाद पावनी ने पूछ ही लिया, तुम शादी क्यों नहीं कर लेती? तुम्हें सहारा मिल जाएगा और तुम्हारे भाई बहनों की जिम्मेदारी ...

आखर चौरासी - 33
by Kamal
  • 28

गुरनाम उस दिन जब क्लास करने कॉलेज पहुँचा, उसे कोई भी पहचान नहीं सका। ठीक वैसे ही जैसे उस दिन सुबह जब वह जगदीश के साथ रामप्रसाद के होटल ...

आसपास से गुजरते हुए - 28 - Last part
by Jayanti Ranganathan
  • 38

मुझे लगा था कि अप्पा अब मेरी शादी की बात नहीं उठाएंगे। पर दो दिन बाद बहरीन से त्रिवेन्द्रम आया, नगेन्द्रन अपनी बड़ी बहन के साथ मुझे देखने चला ...

सैलाब - 26
by Lata Tejeswar renuka
  • 27

लड़की है न मौसी। कहकर सिर खुजाते हुए दांत से जीभ काट कर फर्श की ओर देखने लगा। इसका मतलब तूने पहले से ही लड़की देख रखी है? ...

आखर चौरासी - 32
by Kamal
  • 12

जिस समय विक्की अपना सफर पूरा कर बस से उतरा, दोपहर ढल चुकी थी। वैसे भी ठंढ के मौसम में दिन छोटे होते हैं। शाम गर्मियों कि अपेक्षा जल्द ...

आसपास से गुजरते हुए - 27
by Jayanti Ranganathan
  • 32

आई को गुजरे छह महीने हो गए हैं। शायद आप भी जानना चाहेंगे कि मेरा क्या हुआ? मैंने क्या किया? मेरे साथ जो हुआ, इस बात का खुद मुझे ...

आखर चौरासी - 31
by Kamal
  • 32

गुरनाम के तर्क का महादेव को कोई जवाब न सूझा। लेकिन यह भी सच था कि गुरनाम के केश कटवाने जरुरी थे। अगर चलते वक्त सतनाम ने उसे कुछ ...

सैलाब - 25
by Lata Tejeswar renuka
  • 37

मुश्किल से शबनम की जिंदगी पटरी पर आने ही वाली थी किस्मत ने उसे फिर से जोरदार झटका दे दिया। दिल का दौरा पड़ने से उसके पिता का देहांत ...

बिराज बहू - 1
by Sarat Chandra Chattopadhyay
  • 87

हुगली जिले का सप्तग्राम-उसमें दो भाई नीलाम्बर व पीताम्बर रहते थे। नीलाम्बर मुर्दे जलाने, कीर्तन करने, ढोल बजाने और गांजे का दम भरने में बेजोड़ था। उसका कद लम्बा, बदन ...

पछतावा
by Satish Sardana Kumar
  • 19

पछतावासतीश सरदानासुबह के सवा नौ बजे तीन जन इंछापुरी रेलवे स्टेशन पर उतरे।पैसेंजर ट्रेन की अधिकांश सवारी शिव मंदिर की तरफ मुड़ गई।ये तीन जन उनसे विपरीत खेतों के ...

માનવી ની માનવતા સામે પડકાર
by Sneha Patel
  • 17

                આજ નો માનવ કોઈ બીજા ને સલાહ આપવાનો મોકો મળ્યો નથી કે અસંખ્ય સલાહો આપી દે છે. જ્યારે પોતાની જાતને સુધારવાની ...

મહત્વાકાંક્ષા નું ભારણ...
by Margi Patel
  • 19

આજની આ દેખાવડા જીવનમાં માતાપિતા એ ખુબ જ બાળકો પર અભ્યાસ નું દબાણ આપે છે.  આ વાત મોટા બાળકો ની નહીં પણ નર્સરી માં ભળતા જ એક બાળક ની ...