Best Children Stories Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

आसमान में डायनासौर - 1
by राज बोहरे

आसमान में डायनासौर  1   बाल उपन्यास राजनारायण बोहरे                यकायक हड़कंप सा मच गया था।                उड़नतश्तरियां ही उड़नतश्तरियां!!                आसमान भरा हुआ था उड़नतश्तरियों से।   ...

ઘુવડની પાંખ
by Mayur Chauhan

એક સાવ નિર્જન ગામ હતું. એવું ગામ કે તેની ઉપરથી ન કાગડા ઉડે ન બતક ઉડે, ન કાબર કે ચકલી. મસમોટું જંગલ પણ જંગલમાં તો કોઈ જાનવર જ નહીં. ...

रोबोट वाले गुण्डे (8) (अंत)
by राज बोहरे

रोबोट वाले गुण्डे बाल उपन्यास   -राजनारायण बोहरे   8                                       रेडियो पर बातें सुनकर वे लोग सिहर उठे। वार्तालाप से उन्होंने जाना कि भारत के वैज्ञानिको का ...

रोबोट वाले गुण्डे (7)
by राज बोहरे

रोबोट वाले गुण्डे बाल उपन्यास  -राजनारायण बोहरे 7                       दयाल साहब इस बार होश में आये तो वे काफी स्वस्थ थे। फौजी जासुस केदारसिंह और उनकी पत्नि यानि ...

ओजस का जन्मदिन
by Uddhav Bhaiwal

                                                                                                                                                                                उद्धव भयवाल                                                   ...

મારા ઠોઠ વિદ્યાર્થીઓ - 21
by Sagar Ramolia

એક ટેભો પણ આઘાપાછો ન થાય(મારા ઠોઠ વિદ્યાર્થીઓ – ૨૧)          આપણું જીવન એવું છે કે કયારે કયું કામ કરવા જવું પડે તેની કોઈ ખાતરી હોતી ...

रोबोट वाले गुण्डे (6)
by राज बोहरे

रोबोट वाले गुण्डे बाल उपन्यास  राजनारायण बोहरे   6              उधर से प्रो. दयाल की आवाज़ थी।              अंदर से घबराते हुये भी उन्होंने बड़े इत्मीनान से दयाल साहब ...

रोबोट वाले गुण्डे (5)
by राज बोहरे

रोबोट वाले गुण्डे बाल उपन्यास  -राजनारायण बोहरे 5               प्रोफेसर सर्वेश्वर दयाल को नगर की हलचलो से कुछ मतलब न था, वे जब खूब आराम चाहते थे तो ...

थोड़ा गरम कर दो न !(दानी की कहानी)
by Pranava Bharti

थोड़ा गरम कर दो न !(दानी की कहानी) ------------------------------------         अब तो दानी की शादी को पचास साल से ऊपर हो चुके हैं लेकिन यह बात तबकी ...

रोबोट वाले गुण्डे (4)
by राज बोहरे

रोबोट वाले गुण्डे बाल उपन्यास  -राजनारायण बोहरे 4                आज अंतरिक्ष का तीसरा दिन था।              भारत वर्ष मे गर्व की ध्वजा लिये, तिरंगे रंग का झंडा फहराता ...

रोबोट वाले गुण्डे (3)
by राज बोहरे

रोबोट वाले गुण्डे बाल उपन्यास  -राजनारायण बोहरे 3              सुबह  के आठ बजे थे।              घंटी बजाने पर दरवाजा खोला प्रो. दयाल के नौकर ने।              अजय-अभय ने नौकर ...

रोबोट वाले गुण्डे (2)
by राज बोहरे

रोबोट वाले गुण्डे बाल उपन्यास  - राजनारायण बोहरे   2        प्रोफेसर दयाल ने रेडियो बन्द किया और उठ खड़े हुये। अजय अभय भी उठे।        अजय और अभय ...

रोबोट वाले गुण्डे (1)
by राज बोहरे

रोबोट वाले गुण्डे बाल उपन्यास  राजनारायण बोहरे   1          भोर हो रही थी।        रात समाप्त हो चुकी थी, दिन निकल रहा था। फौजी जासुस केदार सिंह ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (10)
by राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे     10 रत्नदीप भी जादुई द्वीप था । दीप पर उतरते समय चंद्र परी साथ थी। शिवपाल ने अपने बाज को ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (9)
by राज बोहरे

 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे   9 इसके बाद आंगन था और आंगन के बीचोंबीच एक अजीब सा चमकदार कमरा बना था जिसमें कही से दरवाजा ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (8)
by राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे   8  शिवपाल ने आव देखा न ताव एक ही वार में गोरिल्ला का सिर काट दिया।   जमीन पर गिर ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (7)
by राज बोहरे

 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे    7 शिवपाल समझ गया कि दरवाजा ऐसे तो सूना दिख रहा है कि लेकिन जादूगर जंकाल ने बिना किसी रखवाले ...

धरती तो हरी हुई (दानी की कहानी )
by Pranava Bharti

धरती तो हरी हुई (दानी की कहानी ) -------------------------------     दानी की एक बहुत क़रीबी दोस्त हैं | उनकी दोनों बेटियाँ विदेश में रहती हैं |  जब भी उनके ...

निवेदन पत्र...
by सिमरन जयेश्वरी

"और ये पूरी ताकत के साथ बंटी ने लगाया सिक्स...!!!!!" छोटे कमेंटेटर बल्लू ने हाथ में पकड़ा हुआ बोटल वाले माइक पर चिल्लाकर कहा। और पूरी बच्चा पार्टी हुर्रे-हुर्रे!!! ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (6)
by राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे      6 कुछ देर बाद  सामने खूब सारी रोशनी दिखी तो वह दौड़कर उधर ही पहुंचा। शिवपाल फिर चकित था- ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (5)
by राज बोहरे

 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे    5 आगे बढ़ने पर और ज्यादा गाढ़ा धुंआ दिखने लग गया था। अभी वह दो सौ कदम ही आगे बढ़ा ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (4)
by राज बोहरे

 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे    4 कुछ ही देर में वे समुद्र को पार कर चुके थे और मगरमच्छ गहरे पानी से जमीन की तरफ ...

Untitled
by r k lal

“सब्जी वाला लड़का” आर 0 के 0 लाल                     बाबूजी सब्जियां ले लीजिए, सस्ती और हरी सब्जियां ले लीजिए। मोहल्ले की गली में एक लड़का काफी देर से ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (3)
by राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे    3  पांचवे समुद्र को पार करते समय शिवपाल ने देखा कि समुद्र में तूफान आया हुआ है और बीच समुद्र ...

खाली हाथ नहीं लौटते...
by सिमरन जयेश्वरी

खाली हाथ नहीं जाते... . . . . . "काका....???? ओ काका...!!! क्या लाये हो मेरे लिए....!!!" उसने काका के गाल पर उंगली फेरते हुए कहा। "अरे गुड्डे तेरे ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (2)
by राज बोहरे

2 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे   ठीक तभी परी भी प्रकट हो गयी और शिवपाल की मां से बोली कि आप बहुत अच्छी महिला है ...

ઈવાનઃ 'એક નાનો યોદ્ધા' - 6
by u... jani

          10.     ૧૪ દિવસની જર્નીનો અંત        આ બાજુ, એક રેડિયો સ્ટેશન પરથી માહિતી મળી આવે છે. જે ઓફિસર ઈવાનને શોધી રહ્યા ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (1)
by राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे                                 जादूगर जंकाल और सोनपरी        बहुत पुरानी बात है। जब इस देश में जादूगर और परी, बहुत सारे ...

व्हाट इज़ दिस ? !(दानी की कहानी )
by Pranava Bharti

व्हाट इज़ दिस ? !(दानी की कहानी ) ------------------------------       बात बड़ी बहुत पुरानी है | जब दानी की शादी हुई  थी तब दानी बीस वर्ष की थीं | उन ...

विकलांग मन
by Swatigrover

लगातार दूसरी बार नमन आठवीं  में फेल हो गया। उसके पापा ने उसकी  डंडे से पिटाई  की । माँ ने भी लाड  नहीं  दिखाया ।  "पापा  बात  नहीं  समझते, आख़िर  मैं  पढ़  ...

निदिया
by JYOTI PRAKASH RAI

मनुष्य यदि किसी विषय पर चिंतन मनन करने लगे तो वह जरूर परिणाम प्राप्त कर सकता है और यदि कार्य पूरी मेहनत लगन और निष्ठा से किया गया हो ...