meigchhalana by राज बोहरे in Hindi Love Stories PDF

मृगछलना

by राज बोहरे in Hindi Love Stories

मृगछलना आसमान में हलके से बादल थे। श्वेत-धवल बादल। धूप में खूब गर्माहट थी लेकिन हवा सुरीली (ठंड़ी) थी। यह बसंत का मौसम था। सर्दी जा रहीं थी और गर्मी की पदचाप माहौल में गूँज रही थी। टैम्पो ...Read More