जो घर फूंके अपना - 52 - चक्कर पर चक्कर, पेंच में पेंच

by Arunendra Nath Verma in Hindi Humour stories

जो घर फूंके अपना 52 चक्कर पर चक्कर, पेंच में पेंच इस बार लक्षण अच्छे थे. प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में कोई फेर बदल नहीं हुआ. नियत दिन हमने पालम हवाई अड्डे से संध्या को चार बजे उड़ान भरी. इलाहाबाद ...Read More