Dayalu by Kumar Gourav in Hindi Thriller PDF

दयालु

by Kumar Gourav in Hindi Thriller

उससे इश्क भी नहीं था और उसके बिना करार भी नहीं । कहते हैं प्रेम कोई जंगली फूल है दुर्गम परिस्थितियों में खिलकर वह और सुंदर दिखाई देता है।औरों से दुगुनी कीमत देकर उसकी सोहबत हासिल की थी । ...Read More