English Poem status by S Kumar on 06-May-2019 09:34am

#Kavyotsav -2
#हास्य


मुश्किल है अपना मेल प्रिये,<

read more
S Kumar 1 year ago

श्रीमान @Udayvir जी कवी कमी देखे और व्यंग लिखे तो जायज है लेकिन कवि खूबी देखे और ना लिखे तो ये भी नजायज है

S Kumar 1 year ago

अरे नही sir ,, आपके comments मेरे लिये और सुधार लाने में मदद करेंगे thanks ? ?? यूँ समझ लीजिए किसी नाचीज ने खुद के promotion के लिए श्री Sunil Jogi जी की पंक्तियों को इस्तेमाल कर लिया ???

S Kumar 1 year ago

श्रीमान @Udayvir जी , मैंने स्वरचित भी post की हैं , ये तो MB Team की और सब पाठकों की jurisdiction है so let them decide ? रही बात हूबहू लिखने में तो कुछ stanza मैंने change किये हैं ,चाहता तो बाकी भी change कर लेता , ज्यादा शब्द की भी बंदिश नही थी , लेकिन मैंने उनकी रचना के सम्मान के लिए Start और End same रखा और बीच मे ही change किया है

Udayvir Singh 1 year ago

बड़े और स्थापित रचनाकारों की शैली अपनाना अच्छी बात है आप लिखिए....उनसे भी बेहतर लिखिए, हमें अच्छी रचनाएँ पढ़ने को मिलेंगी तो हमें भी ख़ुशी होगी। यह एक सार्वजनिक और सामाजिक मंच है, मुझे जो उचित लगा वो लिखा, बाक़ी आप स्वतंत्र हैं कुछ भी लिखने और पोस्ट करने के लिए। अगर आपको मेरी टिप्पणी से कोई असुविधा हई हो..तो क्षमा ?? ।

Udayvir Singh 1 year ago

श्रीमान जी आप एक प्रतियोगिता (कव्योत्सव ) में अपनी प्रविष्टि भेज रहे हैं तो स्वत: स्पष्ट ही है कि रचना स्वरचित ही होनी चाहिए। रही बात किसी बड़े रचनाकार की पद्धति / पैटर्न पर रचना लिखना तो हम वहाँ से छंद, रस, कथानक , शैली अवश्य ही ले सकते हैं किंतु पंक्तियों को हुबहू लिखना कहीं से भी उचित नहीं है। बाल्मीकी रामायण और तुलसीकृत रामचरितमानस मानस में केवल कथानक में ही समानता है बाक़ी रचनाकर्म दोनों का अपना अपना मौलिक ही है। यहाँ तक कि दोनों की भाषा ही अलग है एक संस्कृत में तो दूसरी हिंदी(अवधी) में है।

S Kumar 1 year ago

Ramayan की रचना सर्वप्रथम महृषि वाल्मीकि जी ने कि थी उसके बाद गोस्वामी तुलसीदास जी व अन्य महान संतों ने भी उसी को सरल करके अपनी अपनी भाषा मे लिखा है तो इसे क्या कोई अशोभनीय कार्य कहा जायेगा ?? मेरा मकसद हास्य से था , और लिख दिया अगर कोई गलती है तो matrubharti की team है आप report कर सकते है अगर मेरी वजह से आपको कोई ठेस पहुंची हो तो I am very Sorry ?

S Kumar 1 year ago

श्रीमान #Udaivir जी मैंने कब लिखा है की ये मेरी रचना है कोई नीचे नाम भी नही लिखा और ये भी कहाँ लिखा है कि स्वरचित ही post करनी है मैं खुद पदमश्री Sh Sunil Jogi जी को बहुत पढ़ता हु इस कविता के pettern पर पिछले 10 सालों में सैकड़ो और हास्य रचनाएं भी अलग अलग लोगों ने बनाई हैं मैंने खुद अपनी story "पहला घूँट" इसी कविता के pattern पर लिखी है , उसमे सारे शब्द मेरे ही है ,, समय मिले तो plz पढ़ना अगर किसी महान रचना कार के pattern को follow करता हु तो ये मेरी उनके प्रति श्रद्धा है

Udayvir Singh 1 year ago

श्रीमान जी आदरणीय सुनील जोगी जी द्वारा लगभग दो दशक पहले लिखी गयी हास्य कविता को आप एकाध पंक्ति में मामूली सा बदलाव करके आप आपने नाम से प्रकाशित कर रहे हैं। ये आशोभनीय है।

View More   English Poem Status | English Jokes